जींद मुख्यालय पर मनाया गया विजय दिवस डाक्टर अदित्य दहिया एंव सैन्य अधिकारीयों एंव विभिंन सामाजिक संस्थाओं पुष्प चढ़ाकर शहीदों को किया नमन ..........

सैनिक परिवार भवन संस्थान में सैनिकों के बच्चों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इन प्रशिक्षण संस्थान में विद्यार्थियों को अन्य प्रकार की सुविधांए भी उपलब्ध करवाई जा रही है। सेवानिवृत कर्नल डीके भारद्वाज ने भी विजय दिवस पर विस्तार से जानकारी दी और बताया कि आज के दिन भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सेना को समर्पण करने पर मजबूर कर दिया था। कुरूक्षेत्रा विश्वविद्यालय के पूर्व उप कुलपति डाक्टर अश्विनी चावला ने भी विजय दिवस पर अपनी और शुभकामनाए दी। और शहिदों को नमन किया

जींद मुख्यालय पर मनाया गया विजय दिवस डाक्टर अदित्य दहिया एंव सैन्य अधिकारीयों एंव विभिंन सामाजिक संस्थाओं पुष्प चढ़ाकर शहीदों को किया नमन ..........

उपायुक्त डाक्टर अदित्य दहिया एंव सैन्य अधिकारीयों एंव विभिंन सामाजिक संस्थाओं पुष्प चढ़ाकर शहीदों को नमन किया उपायुक्त  ने कहा कि 16 दिसम्बर 1971 का दिन भारतीय सेनाओं के इतिहास में स्वर्णिम दिन था। इस दिन भारतीय सेना के सम्मुख लगभग एक लाख पाकिस्तानी सैनिकों ने एक समारोह में समर्पण किया था। इस जश्ने फतह को त्यौहार की तरह मनाया जाता है- उपायुक्त जींद ने सोमवार को विजय दिवस के मौके पर गोहाना रोड़ पर स्थित शहीद स्मारक पर पुष्प चक्र चढ़ाकर शहीदों को नमन किया।पूर्व सैनिक सेवा परिषद, वरिष्ठ नागरिक फोर्म के पदाधिकारियों समेत समाज के अनेक गणमान्य व्यक्ति,समाज सेवी संगठनों के प्रतिनिधि,वकील तथा स्कूली बच्चे शामिल थे। विजय दिवस के मौके पर हरियाणा पुलिस की टुकड़ी ने शस्त्र झुकाकर शहीदों को नमन किया।  उपायुक्त डाक्टर अदित्य दहिया ने कहा कि 16 दिसम्बर 1971 का दिन भारतीय सेनाओं के इतिहास में स्वर्णिम दिन था। इस दिन भारतीय सेना के सम्मुख लगभग एक लाख पाकिस्तानी सैनिकों ने एक समारोह में समर्पण किया था। इस जश्ने फतह को त्यौहार की तरह मनाया जाता है। हमें अपने कार्य को पूर्णतत्परता,निष्ठा व उत्तरदायी तरीके से करना चाहिए।  हमें आजादी शहीदों की कुर्बानी से मिली है इस आजादी को सहेजकर रखने का दायित्व प्रत्येक भारतवासी का बनता है। उन्होंने कहा कि विश्व बन्धुत्व की भावना को विकसित किया जाना चाहिए । उपायुक्त ने कहा कि देश के लिए अपने प्राणों का सर्वोच्च बलिदान देने वाले शहीदों की शहादत को भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने बताया कि जिला  में सैनिक परिवार भवन संस्थान में सैनिकों के बच्चों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इन प्रशिक्षण संस्थान में विद्यार्थियों को अन्य प्रकार की सुविधांए भी उपलब्ध करवाई जा रही है। सेवानिवृत कर्नल डीके भारद्वाज ने भी विजय दिवस पर विस्तार से जानकारी दी और बताया कि आज के दिन भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सेना को समर्पण करने पर मजबूर कर दिया था। कुरूक्षेत्रा विश्वविद्यालय के पूर्व उप कुलपति डाक्टर अश्विनी चावला ने भी विजय दिवस पर अपनी और शुभकामनाए दी। और शहिदों को नमन किया