गुरुग्राम-:गार्ड की बहादुरी से डकैती की कोशिश नाकाम 2 इलाके की 961 में हथियारबंद बदमाशो ने दिया वारदात को अंजाम

सीसीटीवी में कैद पुलिस की कार्यशली पर जहाँ गंभीर सवाल खड़े कर रही है तो वही 2 महीनों में दूसरी वारदात से कंपनी मालिको में भी डर का माहौल जरूर पैदा हो गया है...हालांकि सीसीटीवी में कैद बदमाश सुरक्षा गार्ड की मुस्तैदी और बहादुरी से अपने मंसूबो में कामयाब तो नही हो पाए.... लेकिन पुलिस के सेवा सुरक्षा और सहयोग जैसे लोकलुभावन नारो की पोल जरूर खोल दी है.....अब ऐसे में देखना होगा कि दो महीने में दूसरी वारदात की फजीहत के बाद पुलिस कब तक वारदात में शामिल बदमाशो को गिरफ्तार कर उनके अंजाम तक पहुंचा पाती है।

गुरुग्राम-:गार्ड की बहादुरी से डकैती की कोशिश नाकाम 2 इलाके की 961 में हथियारबंद बदमाशो ने दिया वारदात को अंजाम

गुरुग्राम : साइबर सिटी के सेक्टर 37 फेज़ 2 में लाठी डंडो से लैस डकैतों ने कंपनी के गार्ड पर हमला बोल दिया....दरअसल सीसीटीवी में कैद यह बदमाश आये तो थे कम्पनी में डकैती की वारदात को अंजाम देने के लिए लेकिन गार्ड की समझदारी और बहादुरी से बड़ी वारदात होने से बच गई......मामला आज अल सुबह सेक्टर 37 फेज़ 2 की कंपनी नम्बर 960/961 का है...जहाँ 7 से 8 युवक कंपनी में लूट की वारदात को अंजाम देने पहुंचे थे....और कम्पनी के गार्ड को झांसे में ले गेट खोलने के लिए कहने लगे.....लेकिन कंपनी के गार्ड ने तमाम बातों को दरकिनार कर कंपनी का गेट नही खोला.....और इसी बात से आग बबूला हो तमाम बदमाश गेट के साथ लगती दीवार फांद का अंदर दाखिल हुए और गार्ड को लाठी डंडो से बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया........बस इसी होहल्ले के बाद मचे शोर की आवाज़ सुन जब आसपास के लोगो ने शोर मचाया तो घबराए बदमाश मौके से फरार हो गए........मौके पर पहुंचे आसपास के लोगो ने गंभीर तौर पर घायल गार्ड दयाराम को पहले सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहाँ से गार्ड की नाजुक हालत हो देखते हुए उसे तुरंत दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल रैफर कर दिया गया......बहरहाल मामले की शिकायत पुलिस को दी गयी है और गुरुग्राम पुलिस मामले की तफ्तीश में जुटी है..........गुरुग्राम पुलिस का सेवा सुरक्षा और सहयोग का नारा कितना सार्थक साबित हो रहा है इसका अंदाज़ आप इस वारदात से लगा सकते है कि...कैसे गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर जब पूरा सुरक्षा चक्र अलर्ट पर था कैसे 7 से 8 बदमाश आराम से कंपनी में घुस डकैती के वारदात को अंजाम देने की कोशिश करते है और कैसे नाकाम होने पर आराम से फरार होने में कामयाब भी हो जाते है और गुरुग्राम पुलिस के हाथ कोई सुराग तक नही लग पाता......इस वारदात में हैरान और परेशान करने वाली बात यह भी है कि इसी कंपनी में बीती 18 नवम्बर को भी 7 से 8 बदमाशो ने कॉपर की छड़ो को लूट तकरीबन4/5 लाख की डकैती को अंजाम दिया था  जिसमे गुरुग्राम पुलिस ने एफएआईआर दर्ज कर सीसीटीवी फुटेज को भी अपने कब्ज़े में लिया जरूर था लेकिन खाकी से बेख़ौफ़ बदमाशो ने 2 महीने बाद ही फिर से पुलिस की तैयारियों को धत्ता बताते हुए वारदात को अंजाम देने की योजना बना डाली.......वारदात सीसीटीवी में कैद पुलिस की कार्यशली पर जहाँ गंभीर सवाल खड़े कर रही है तो वही 2 महीनों में दूसरी वारदात से कंपनी मालिको में भी डर का माहौल जरूर पैदा हो गया है...हालांकि सीसीटीवी में कैद बदमाश सुरक्षा गार्ड की मुस्तैदी और बहादुरी से अपने मंसूबो में कामयाब तो नही हो पाए.... लेकिन पुलिस के सेवा सुरक्षा और सहयोग जैसे लोकलुभावन नारो की पोल जरूर खोल दी है.....अब ऐसे में देखना होगा कि दो महीने में दूसरी वारदात की फजीहत के बाद पुलिस कब तक वारदात में शामिल बदमाशो को गिरफ्तार कर उनके अंजाम तक पहुंचा पाती है।