अम्बाला : पीएम मोदी को डंडे से मारने का बयान देने वाले राहुल गांधी भाजपा के निशाने पर ....

अम्बाला : पीएम मोदी को डंडे से मारने का बयान देने वाले राहुल गांधी भाजपा के निशाने पर  ....

अम्बाला : पीएम मोदी को डंडे से मारने का बयान देने वाले राहुल गांधी इन दिनों भाजपा के निशाने पर हैं। बीते रोज़ संदन में हुए जबरदस्त हंगामे के बाद पीएम मोदी पर विपक्ष को दबाने के और पीएम के व्यवहार पर उंगली उठा रहे राहुल गांधी को एक बार फिर हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने आड़े हाथों लिया। राहुल गांधी के बयान पर पलटवार करते हुए अनिल विज ने कहा कि सदन के अंदर और बाहर कांग्रेस का रवैया आज पूरा देश जनता है क्योंकि डंडों की बात राहुल गांधी कर रहे हैं पीएम ने आज तक ऐसी बात नहीं की।  सूबे की गठबंधन सरकार के 100 दिन पूरे हो चुके हैं। ऐसे में जहां सरकार अपनी पीठ थपथपा रही है वहीं विपक्ष सरकार को घेरने में जुटा है। सरकार के 100 दिनों की उपलब्धि घोटाले बताने वाली कुमारी शैलजा और सरकार को इंजन फेल्यर सरकार बताने वाले कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला भी विज के निशाने पर रहे । कांग्रेसी नेताओं पर पलटवार करते हुए विज ने कहा कि शैलजा ने 100 दिन सिर्फ सो कर बिताए हैं इसलिए उसे सरकार की उपलब्धियां नजर नहीं आई। विज ने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा कि कांग्रेस की पूरे देश से छुट्टी हो चुकी है। वहीं रणदीप सुरजेवाला को रिजेक्टिड माल बताते हुए विज ने सुरजेवाला पर भी तंज कसा और कहा कि रिजेक्टिड माल को किसी भी प्रकार की टिप्पणी करने का अधिकार नहीं।  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चुनाव से पहले हनुमान मंदिर में माथा टेक कर भाजपा की साजिश फेल होने का बयान क्या दिया कि केजरीवाल बीजेपी के निशाने पर आ गए। केजरीवाल पर तंज कसते हुए अनिल विज ने कहा कि अपनी हार देखकर केजरिवाल हनुमान जी के चरणों मे गिर गया और हनुमान जी कह रहा है कि मुझे बचालो।  महबूबा मुफ़्ती और उमर अब्दुल्ला पर PSA लगाया गया है। इस मुद्दे का आधार पूछ रही प्रियंका गांधी भी अनिल विज के निशाने पर रही। विज ने प्रियंका गांधी और निशाना साधते हुए कहा कि प्रियंका गांधी को आधार समझ नहीं आता । विज ने कहा कि कश्मीर में शांति रखने के लिए ही ये किया गया है। हरियाणा के सरकारी कॉलेजों से MBBS करने वाले डॉक्टरों को लेकर सरकार इस बार सदन में बिल पेश करने की तैयारी कर रही है। जिसके बाद MBBS करने वालों को प्रदेश में कम से कम एक या फिर दो वर्ष नौकरी करना अनिवार्य होगा। जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि ऐसा डॉक्टरों की कमी पूरी करने के लिए किया जा रहा है।