कोरोना के बीच शुरू हुई "गणपति उत्सव" की तैयारियां...

कोरोना के बीच गणपति उत्सव की तैयारियां शुरू।हालांकि अभी हालात सही है लेकिन कोरोना का असर गणपति महोत्सव पर भी पड़ा है।जिससे कि मूर्तिकारों के लिए ये उत्सव फीका पड़ता दिखाई दे रहा है।

कोरोना के बीच शुरू हुई "गणपति उत्सव" की तैयारियां...
Yamunanagar (Sumit Oberoi) || कोरोना के बीच गणपति उत्सव की तैयारियां शुरू।हालांकि अभी हालात सही है लेकिन कोरोना का असर गणपति महोत्सव पर भी पड़ा है।जिससे कि मूर्तिकारों के लिए ये उत्सव फीका पड़ता दिखाई दे रहा है। मूर्तिकारो ने अलग अलग डिजाइन की भगवान गणेश की मूर्तियां बनाई है जिसमे बाल रूप से लेकर अन्य रूपो की छोटी से बड़ी सभी मूर्तियां तैयार की है।मूर्तियों को तैयार कर बेचने बैठे शिल्पकारो का कहना है कि खरीदार बहुत कम पहुंच रहे है जिससे कि मुर्तिया नही बिक पा रही है इससे इन कारोबारियों में बेचनी हैं कि कैसे लागत खर्च पूरा होगा ।

कोरोना के बीच गणपति महोत्सव ।परिवार समेत मूर्तिकार दिन रात मूर्तिया बनाने के काम मे लगे है।लेकिन कोरोना ने उनके काम पर भी असर डाला है पिछले साल भी कोरोना की मार उनके काम पर पड़ी और इस बार भी बहुत कम खरीदार आ रहे है ।ज्यादतर लोग अपने घरों के लिए  छोटी छोटी गणपति की मूर्तियां खरीद रहे है। 151 रुपए की मूर्ति से लेकर 15 हज़ार तक कि मूर्तियां है।लेकिन बड़ी मूर्तियों के खरीदार बहुत ही कम है।6 महीने से हम मूर्तिया बना रहे है पिछली बार घरों के लिए लोगो ने खरीददारी की थी।हम बहुत मेहनत करते है अब बेचने का समय आया है तो ख़रीददार नही है।भगवान गणपति कृपा करेंगे तो ग्राहक भी आएंगे।अभी तो हमे ग्राहकों का इंतजार करना पड़ रहा है। वही लोगों में गणपति उत्सव को लेकर बड़ी आस्था है ।जिसके चलते लोग घरों के लिए गणपति की मूर्तियां खरीद रहे है।जहां मूर्तिकार मूर्तियों को फाइनल टच दे रहे है ।वही भगवान गणेश में आस्था रखने वाली दो बच्चियों ने भी डॉक्टर के रूप में गणपति की मूर्ति को तैयार करवाया है और उसे खुद ही रंगों के साथ फाइनल टच दे रही है।गणपति को डॉक्टर के रूप में फाइनल टच दे रही वासी ने बताया कि कई वर्षों से घर में गणपति को लाते है ।कोरोना में डॉक्टर्स ने सबकी ज़िन्दगी बचाने का काम किया ।इसलिए हमने गणेश जी को डॉक्टर रूप में बनवाया है।कोरोना के चलते केवल हम परिवार के लोग ही पूजन करेंगे आसपड़ोस और किसी रिश्तेदार को नही बुलायेंगे।