महेंद्रगढ़ में अपहरण करने आए लोगों ने एसएचओ को मारी टक्कर

क्षेत्र के गांव बवानिया के एक लड़के का अपहरण करने का मामला पुलिस ने दर्ज किया था वही पुलिस को इसकी सूचना मिलने पर पुलिस द्वारा बिना देरी किए थाना प्रभारी उमर अहमद अपनी टीम के साथ वहीं दूसरी तरफ अश्वनी कुमार दोंगड़ा अहीर चौकी से अपनी टीम के साथ व डीएसपी राजीव कुमार अपनी टीम के साथ मौका-ए-वारदात पर पहुंच गए।

महेंद्रगढ़ में अपहरण करने आए लोगों ने एसएचओ को मारी टक्कर

Mahendragarh (Sushil Sharma) || क्षेत्र के गांव बवानिया के एक लड़के का अपहरण करने का मामला पुलिस ने दर्ज किया था वही पुलिस को इसकी सूचना मिलने पर पुलिस द्वारा बिना देरी किए थाना प्रभारी उमर अहमद अपनी टीम के साथ वहीं दूसरी तरफ अश्वनी कुमार दोंगड़ा अहीर चौकी से अपनी टीम के साथ व  डीएसपी राजीव कुमार अपनी टीम के साथ मौका-ए-वारदात पर पहुंच गए। दोंगड़ा अहीर चौकी से अश्वनी कुमार ने बताया कि जब सूचना मिली तो मैं अपनी प्राइवेट गाड़ी से  अपनी टीम के साथ पहुंचा वहीं दूसरी तरफ एसएचओ कनीना व डीएसपी कनीना की टीम भी पहुंच गई। इसी बीच अपहरण करने वाले की गाड़ी के पीछे लगाकर उसका पीछा किया तो अपहृत युवक रामफल को छोड़ भागे। किंतु पुलिस ने उनका पीछा महेंद्रगढ़ में किया जहां डीएसपी राजीव कुमार कनीना, अश्विनी दौंगड़ा अहीर तथा उमर मोहम्मद एसएचओ कनीना ने अपहरण करने वालों को महेंद्रगढ पुराने स्कूल के पास घेर लिया।  पुलिस प्रभारी को टक्कर मारी जिसमें एसएचओ उमर मोहम्मद बुरी तरह घायल हो गए लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस ने बदमाशों के अपहरण को नाकाम करते हुए लड़के को बचाने में कामयाबी हासिल कर ली।

यहां गौरतलब है कि कनीना के गांव बवानिया के एक लड़के को करीब आधा दर्जन लोगों ने अपहरण कर लिया गया था जिसकी सूचना चंडीगढ़ से सभी थानों को दी गई जिस पर थाना कनीना के थाना प्रभारी ने अपनी टीम बना मौका-ए वारदात पर पहुंच कर अपहरण करने वाली टीम का मुकाबला किया जिसमें अपहरण करने वाले लोगों ने एसएचओ पर गाड़ी चढ़ा कर जान से मारने का प्रयास किया जिसमें उनको गंभीर चोटें आई लेकिन उसके बावजूद भी उन्होंने अपहृत किए हुए व्यक्ति को छुड़ाने में कामयाबी हासिल की वहीं पुलिस ने तीन लोगों भिवानी से नवीन एवं दो अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच आरंभ कर दी हैं।

वही एसएचओ उमर मोहम्मद  को अधिक चोट लगने के कारण राजकीय अस्पताल महेंद्रगढ़ भर्ती करवाया जहां पर उनका प्राथमिक उपचार करवा कर उनको छुट्टी दे दी। एसएसओ उमर मोहम्मद ने महेंद्रगढ़ थाने में दी शिकायत में बताया कि 22 जुलाई को रात के समय तकरीबन 10:30 बजे एक टेलीफोन डायल 112 नंबर गाड़ी से मेरे सरकारी नंबर पर प्राप्त हुआ कि गांव बवानिया में एक रामफल नाम के लड़के को तीन चार लड़के एक सफेद रंग की स्विफ्ट डिजायर गाड़ी में डालकर अपन कर ले जा रहे हैं जिसकी सूचना मिलते ही हम सरकारी गाड़ी सही मौके घटनास्थल पर पहुंचकर अपहरणकर्ताओं का पीछा करते हुए पुराने गर्ल कॉलेज के पास पहुंचे तो वहां पर एक स्विफ्ट डिजायर गाड़ी पहले से खड़ी थी जिसको चेक करने के लिए मैं गाड़ी सरकारी सूत्रों तो स्विफ्ट गाड़ी में बैठे एक लड़के ने जोर से आवाज लगाई कि नवीन पुलिस आ गई है। इसको सीधी टक्कर मारकर जान से। जो स्विफ्ट डिजायर के चालक ने ऐसे तो उम्र मोहम्मद को सीधी टक्कर मारी टक्कर लगने से ऐसा क्यों नीचे गिर गए और चोटिल हो गए उसके बाद स्विफ्ट डिजायर गाड़ी चालक तक मौके से गाड़ी भगा ले गए। एसएचओ उमर मोहम्मद को कमर में हाथ में और पैर में चोट लगी।