हरियाणा में लॉक डाउन 14 जून तक बढ़ा, मंदिरों में एक बार फिर से हुई चहल-पहल शुरू

कोरोना संक्रमण के चलते अब हरियाणा में लॉकडाउन 7 दिन के लिए और बढ़ा दिया गया है। अब 14 जून तक लॉकडाउन जारी रहेगा। जिसके आदेश आज हरियाणा सरकार द्वारा जारी कर दिए गए। हालांकि इस बार रियायतें कुछ और बढ़ाई गई है।

हरियाणा में लॉक डाउन 14 जून तक बढ़ा, मंदिरों में एक बार फिर से हुई चहल-पहल शुरू

Rohtak (Harshvardhan) || कोरोना संक्रमण के चलते अब हरियाणा में लॉकडाउन 7 दिन के लिए और बढ़ा दिया गया है। अब 14 जून तक लॉकडाउन जारी रहेगा। जिसके आदेश आज हरियाणा सरकार द्वारा जारी कर दिए गए। हालांकि इस बार रियायतें कुछ और बढ़ाई गई है। अब दुकाने सम-विषम  के आधार पर सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक खुली रहेंगी।  धार्मिक संस्थानों को भी खोलने की अनुमति सरकार के द्वारा दे दी गई है। लेकिन इस दौरान धार्मिक संस्थानों पर केवल 21 लोगों के जाने की अनुमति होगी। जिन्हें सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करनी होगी। रोहतक में जहां श्रद्धालु मंदिरों में पूजा करने की अनुमति को लेकर काफी खुश हैं वहीं दुकानदार सम विषम तिथि के आधार पर दुकानें खोलने को लेकर काफी नाराज नजर आए और बाजारों में भी काफी भीड़ बढ़ गई है। जिसकी वजह से सोशल डिस्टेंसिंग की पालना ना के बराबर है और यही नहीं बहुत से लोगों के मुंह पर मास्क भी दिखाई नहीं दे रहे।

धार्मिक संस्थानों के खुलने से श्रद्धालु और पुजारी भी काफी खुश हैं। उनका कहना है कि जो 21 लोगों की अनुमति धार्मिक संस्थानों में जाने के लिए दी गई है, वह बिल्कुल सही कदम है। हालांकि कोरोना संक्रमण में कमी आई है, लेकिन फिर भी वह मंदिर में पहुंचकर सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करेंगे और मास्क तथा सैनिटाइजर का भी इस्तेमाल करेंगे। ताकि कोई भी दिक्कत भविष्य में ना आए
बाईट श्यामानंद शास्त्री, पुजारी दुर्गा मंदिर डीएलएफ कालोनी

वही सम विषम तिथि के आधार पर मार्केट खोलने के निर्णय को लेकर व्यापारियों का कहना है कि समय बिल्कुल सही निर्धारित किया गया है। लेकिन सम विषम के आधार पर मार्केट खोलना गलत है। संक्रमण में बहुत कमी आई है इसलिए सरकार को चाहिए के सभी दुकानों को खोलने की अनुमति दे दे। क्योंकि अगर सभी दुकानें खुली रहेंगी तो ग्राहक बंट जाएगा और बाजारों में भीड़ भी नहीं बढ़ेगी। अगर आधी दुकान खोलेंगे तो दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ ज्यादा होगी, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बना रहेगा।