झज्जर जिला की धापा ताई बनी प्रदेश के लिए आइडल : मुख्यमंत्री

ख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि झज्जर जिला की धापा ताई पूरे प्रदेश के लिए आइडल बन गई हैं। अब झज्जर जिला की धापा ताई प्रदेश भर में धारा ताई के रूप में अनुकरणीय बनते हुए लैंगिक असमानता को दूर करने में अपना उल्लेखनीय योगदान देंगी। मुख्यमंत्री सोमवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से झज्जर जिला की धापा ताई बनी गांव गोच्छी की सुदेश देवी सहित अन्य धापा ताई से सीधा संवाद कर रहे थे।

झज्जर जिला की धापा ताई बनी प्रदेश के लिए आइडल : मुख्यमंत्री

Jhajjar (Sanjeet Khanna) || मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि झज्जर जिला की धापा ताई पूरे प्रदेश के लिए आइडल बन गई हैं। अब झज्जर जिला की धापा ताई प्रदेश भर में धारा ताई के रूप में अनुकरणीय बनते हुए लैंगिक असमानता को दूर करने में अपना उल्लेखनीय योगदान देंगी। मुख्यमंत्री सोमवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से झज्जर जिला की धापा ताई बनी गांव गोच्छी की सुदेश देवी सहित अन्य धापा ताई से सीधा संवाद कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने झज्जर जिला प्रशासन की ओर से कम लिंगानुपात वाले गांवों में धापा ताई के रूप में लोगों को जागरूक करने के कदम की सराहना करते हुए धापा ताई को प्रदेश स्तर पर एक सार्थक मुहिम के रूप में शुरू करने के लिए प्रेरित किया। झज्जर जिला मे अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस समारोह का आयोजन शहर के राजकीय नेहरू स्नातकोत्तर महाविद्यालय सभागार में हुआ। उपायुक्त जितेंद्र कुमार की जिलास्तरीय कार्यक्रम में गरिमामयी उपस्थिति रही। झज्जर में दीप प्रज्ज्वलन के साथ उपायुक्त ने विधिवत रूप से समारोह का आगाज किया।

मुख्यमंत्री ने विडियो कांफ्रेंस के माध्यम से झज्जर जिला की धापा ताई से रूबरू होते हुए सोच बदलते हुए जमाना बदलने की दिशा में कदम बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि धापा ताई गांवों में लोगों की विचारधारा को बदलने का काम कर रही हैं और घटते लिंगानुपात में सुधार का सशक्त माध्यम बनने जा रही हैं। झज्जर से सीधा संवाद कार्यक्रम में धापा ताई गोच्छी निवासी सुदेश व गांव माजरी निवासी कर्मवती सहित अन्य धापा ताई ने मुख्यमंत्री के समक्ष लैंगिक असमानता को दूर करते हुए लोगों की मनोवृति को बदलने में उठाए गए हर कदम में सहयोगी बनने का विश्वास दिलाया। उपायुक्त जितेंद्र कुमार ने जिलास्तरीय कार्यक्रम में प्रदर्शनी का अवलोकन किया और समारोह में उपस्थित महिलाओं को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएं दी।

उन्होंने कहा कि बेटा-बेटी में भेदभाव करने वाले लोगों की सोच को बदलते हुए सामाजिक मानसिकता में बदलाव लाना बेहद जरूरी है। इसी सोच को बदलने के लिए झज्जर जिला प्रशासन की ओर से धापा ताई प्रोजेक्ट को क्रियांवित किया गया है और जिला के कम लिंगानुपात वाले गांवों में निरंतर धापा ताई जन जागरूकता मुहिम में अलख जगा रही हैं। उन्होंने कहा कि सरकार व प्रशासन के पास संसाधनों की कमी नहीं है किंतु दृढ़ इच्छा शक्ति को प्रबल बनाते हुए हमें महिलाओं का सम्मान कर नारी सशक्तिकरण की दिशा में ठोस कदम उठाने होंगे। उन्होंने सरकार की ओर से कुपोषण अभियान को प्रभावी रूप से चलाने के लिए टीम वर्क के साथ कार्य करने की बात कही। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को आगे बढ़ाने में माता, धर्मपत्नी, बेटी व बहन का योगदान होता है जोकि संस्कारों का समावेश कराने में भी वे अहम भूमिका निभाती हैं।