कोरोना से बचाव के लिए डिजिटल पेमेंट करें उपभोक्ता...

कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर के मध्यनजर बिजली विभाग के अधिकारियों ने एक बैठक की।इस बैठक की अध्यक्षता यूएचबीवीएन के एसई नरेंद्र सिंह ने की।बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा की गई कि बिजली के बिलों को ज्यादा से ज्यादा ऑनलाइन एप पेटीएम,गूगल पेय ,फ़ोन पे इस एप्स के जरिये आसानी से भरा जा सकता है।

कोरोना से बचाव के लिए डिजिटल पेमेंट करें उपभोक्ता...
Yamunanagar (Sumit Oberoi) || कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर के मध्यनजर बिजली विभाग के अधिकारियों ने एक बैठक की।इस बैठक की अध्यक्षता  यूएचबीवीएन के एसई नरेंद्र सिंह ने की।बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा की गई कि बिजली के बिलों को ज्यादा से ज्यादा ऑनलाइन एप पेटीएम,गूगल पेय ,फ़ोन पे इस एप्स के जरिये आसानी से भरा जा सकता है।और इसी बिजली विभाग की एप और साइट और इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से बिजली का बिल भरा जा सकता है।साथ ही उन्होंने यमुनानगर जिले की जनता से अपील की की ज्यादा से ज्यादा ऑनलाइन का प्रयोग जिससे कि हम सब सुरक्षित रहे।

यूएचबीवीएन  के सुपरिटेंडेंट नरेंद्र सिंह ने बताया की कैश कहीं कोरोना वायरस को बढ़ावा देने का काम करता है।क्योंकि एक जगह से कैश पता नही कितनी जगह और कितने हाथों में जाता है।इससे कही न कही कोरोना वायरस का खतरा है। ऐसे में अब उपभोक्ताओं के सहयोग से कैश ना लेने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए बिजली उपभोक्ताओं का सहयोग चाहिए। उन्होंने बताया कि 3 डिवीजन में 13 सब डिवीजन हैं । जहां करीब सवा 3 लाख से अधिक उपभोक्ता अपना बिजली बिल जमा कराते हैं। करीब 60% उपभोक्ता डिजिटल भुगतान के माध्यम से बिल जमा कर रहे हैं। 40% लोगों का सहयोग चाहिए। वे चैक, ड्राफ्ट व कैश बिल जमा ना करवाकर डिजिटल भुगतान करें। उसके लिए भी पेटीएम, गूगल पे, फ़ोन पे, bhim यूपीआई और यूएचबीवीएन की एप्लीकेशन डाउनलोड कर सकते हैं। इसका फायदा यह होगा कि एक तो उपभोक्ताओं को बिजली रसीद मोबाइल पर ही मिल जाएगी। साथ ही साथ वह अगला पिछला बिल स्टेटमेंट भी ऐप पर देख पाएंगें। इसके अलावा जब उपभोक्ता डिजिटल भुगतान करेगा तो उसी ऐप के माध्यम से उसे अपनी बिल जमा करवाने की आगामी तिथि भी पता चल जाएगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण एरिया के लोगों का सहयोग भी अपेक्षित है।