बच्चों की जान खतरे में नहीं डाल सकते , विचार विमर्श के बाद फिर स्कूल बंद कर दिए जाएंगे - कवर पाल गुर्जर

3 दिन पहले हरियाणा में नौवीं से बारहवीं तक के स्कूलों को निर्धारित एसपीओ के तहत खोल दिया गया था । लेकिन इसके बावजूद भी बच्चों की संख्या नहीं बढ़ पा रही है जिसके चलते अभिभावक कहीं ना कहीं असमंजस में फंसे हुए हैं वहीं पर शिक्षा मंत्री ने कहा कि बच्चों की जिंदगी हमारे लिए सबसे अहम है जिसके लिए यदि जरूरत पड़ी तो विचार विमर्श कर स्कूल बंद कर दिए जाएंगे ।

बच्चों की जान खतरे में नहीं डाल सकते , विचार विमर्श के बाद फिर स्कूल बंद कर दिए जाएंगे -  कवर पाल गुर्जर

Yamunanagar (Sumit Oberoi) || कोरोना की रफ्तार धीमी होने के बाद शुक्रवार से हरियाणा में 9वीं से 12वीं तक के स्कूलों को निर्धारित SPO  के तहत खोल दिया गया था और कई महीनों से बंद पड़े स्कूल के कमरे खुले दिखाई दिए । लेकिन 3 दिन बाद भी स्कूलों में बच्चों की रौनक दिखाई नहीं दी ।

इसका मतलब कि अभी भी अभिभावक असमंजस में फंसे हुए हैं कि वह अपने बच्चों को स्कूल भेजें या ना भेजें, क्योंकि तीसरी लहर की आशंका जताई जाने के बाद अभिभावक शंका के घेरे में फंसे हुए हैं । वंही पर शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर ने कहा कि डॉक्टरों की गाइडलाइन के मुताबिक हमने स्कूलों को खोला है । यदि फिर भी किसी भी तरह की दिक्कत होती है तो वह विचार-विमर्श करके स्कूल बंद कर देंगे क्योंकि यह बच्चों की जिंदगी से जुड़ा हुआ मामला है । वहीं पर दूसरी तरफ स्कूल प्रिंसिपल ने बताया कि वह स्कूलों में सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक बच्चों का प्रवेश कर रहे हैं । सबसे पहले गेट पर सैनिटाइज करने के बाद टेंपरेचर चेक करके बच्चों को कक्षा में भेजा जाता है । जिसके बाद एक बेंच पर एक बच्चे को डिस्टेंस के आधार पर बैठाया जा रहा है ओर स्कूल में पूर्ण तरीके से एतिहात बरती जा रही है ।