गुरुग्राम से लुधियाना तक एम्ब्युलेंस संचालक ने वसूला यूएस तक का किराया

साइबर सिटी गुरुग्राम में एम्बुलेंस चालक दुवारा आपदा को अवसर में बदलने का शर्मनाक मामला सामने आया है। एम्बुलेंस चालक दुवारा कोरोना संक्रमित मरीज के परिजनों से किराए के नाम पर एक लाख बीस हजार रुपए वसूले जाने का आरोप लगाया गया है।

गुरुग्राम से लुधियाना तक एम्ब्युलेंस संचालक ने वसूला यूएस तक का किराया

Gurugram (Sanjay Khanna) || साइबर सिटी गुरुग्राम में एम्बुलेंस चालक द्वारा आपदा को अवसर में बदलने का शर्मनाक मामला सामने आया है। एम्बुलेंस चालक द्वारा कोरोना संक्रमित मरीज के परिजनों से किराए के नाम पर एक लाख बीस हजार रुपए वसूले जाने का आरोप लगाया गया है। गुरुग्राम से मरीज को लुधियाना तक ले कर जाने के लिए एम्बुलेंस चालक द्वारा यह रकम वसूली गई है। आपदा के समय अवसर तलाशने जाने से मरीज के परिजन काफी आहत है और उन्होंने इसकी शिकायत जिला प्रशासन से की है। वही परिजन इस बात से भी काफी नाराज है कि उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा जारी किए गए हेल्प लाइन नंबरों पर कई बार फोन किया, लेकिन किसी ने उनका फोन नहीं उठाया। ऐसे में वह अपने मरीज को एम्बुलेंस चालक की मनमानी के बाद लुधियाना ले कर गए और वहा उन्हें दाखिल करवाया।

आपदा को अवसर में बदलने का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी साइबर सिटी में अनेक एम्बुलेंस चालकों पर मनमानी किए जाने के आरोप लगे है। वही इस पूरे मामले में एम्बुलैंस एसोसिएशन के प्रधान और पूर्व प्रधान की माने तो एम्बुलेंस चालक सेवा भाव से कार्य कर रहे है। अगर किसी ने ऐसा किया है तो उसके खिलाफ वह स्वयं ही मामला दर्ज करवाएंगे। एसोसिएशन की माने तो लोग एम्बुलेंस चालकों को इज्जत की निगाह से देखते है। वही जिला प्रशासन ने भी इस पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है। आपदा को अवसर में बदले जाने का शर्मनाक मामला सामने आने के बाद एम्बुलेंस यूनियन और जिला प्रशासन ने कार्रवाई का आश्वासन तो जरूर दिया है,लेकिन देखना होगा कि जिला प्रशासन इस आपदा के समय को अवसर बनाने वालो पर कब तक नकेल कस पाती है।